Sci-Techदेश

2019 का सबसे छोटा दिन 21 दिसम्बर को

साल का छोटा दिन आज

संक्रांति यानि सोल्सटिस एक खगोलीय घटना है जोकि दो बार होती है , एक गर्मियों में तथा  दूसरी   बार सर्दियों में होती है. हर वर्ष सूर्य को जब उत्तर या दक्षिण ध्रुव से देखा जाता है तो वर्ष का सबसे बड़ा दिन 21 जून होता है. उसी दिन  सूर्य की किरण ज्यादा देर तक रहती है और 21 दिसम्बर साल का सबसे छोटा दिन होता है, क्योकि इस दिन सूर्य की किरण पृथ्वी पर कम समय के लिए रहती है. ये साल के वो दिन होते हैं, जिसमें दिन और रात की लम्बाई में सर्वाधिक अंतर पाया जाता है . यह एक सामान्य घटना है जो हर साल होती है.

सूर्य ने 21 दिसम्बर  को दक्षिणायन से उत्तरायण में प्रवेश किया। सूर्य ने सायन मकर में उत्तरायण में सुबह 4 बजकर 33 मिनट पर प्रवेश किया। सूर्योदय 7.16 बजे हुआ, सूर्यास्त 5.34 पर होगा।
साथ ही  शिशिर ऋतु प्रारंभ हो गया। सूर्य दक्षिणी गोलार्ध में मकर रेखा पर होंगा। इस कारण दक्षिणी गोलार्ध में ग्रीष्म ऋतु होती है व उत्तरी गोलार्ध में शीत ऋतु होती है। 21 दिसंबर को सूर्य पृथ्वी से बहुत दूर रहेगा। इस दिन साल का सबसे छोटा दिन व सबसे लंबी रात होगी। इसके बाद से दिन की अवधि बढ़ना शुरू हो जाएगी। आज दिन की अवधि 10 घंटे 18 मिनट है। रात 13 घंटे 42 मिनट की रहेगी। गोलार्ध में दिन की अवधि छोटी व दक्षिणी गोलार्ध में दिन की अवधि बड़ी होती है।
उत्तरी गोलार्ध में 23 दिसंबर से दिन की अवधि बढ़ने लग जाती है। इस दौरान उत्तरी ध्रुव पर रात हो जाती है, जबकि दक्षिणी ध्रुव पर 24 घंटे सूर्य चमकता है। सूर्य 21 मार्च को भूमध्य रेखा पर सीधा चमकेगा, इसलिए दोनों गोलार्ध में दिन-रात बराबर होते हैं।

2019 का सबसे छोटा दिन

इस साल यानि 2019 को सबसे छोटा दिन 21 दिसम्बर 2019, दिन शनिवार को  है, जोकि 10 घंटे 18 मिनिट और 10 सेकेंड का होगा.

शीतकालीन संक्रांति अर्थात साल का सबसे छोटा दिन (Winter Solstice day or Shortest day of the year)

उत्तरी गोलार्द्ध में सूर्य की किरण तिरछी पड़ती है, जिस वजह से यहाँ दिन छोटा और रात बड़ी होती है साथ ही यहाँ सर्दिया रहती है. इसे शीतकालीन संक्रांति या विंटर सोल्सटिस भी करते है.

विंटर सोल्सटिस का सांस्कृतिक महत्व (Winter solstice cultural significance)

शीतकालीन संक्रांति  के तुरंत बाद ही ईसाई धर्म का प्रमुख  त्यौहार क्रिसमस  मनाया जाता है. विंटर सोल्सटिस को जो कि सर्दी के मौसम में पड़ता है, इस समय पर दक्षिणी गोलार्द्ध में शीतकालीन संक्रांति रहता है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker