Breaking News

ऐतिहासिक और प्राकृतिक नजारों का संगम है राजस्थान का पाली

ऐतिहासिक और प्राकृतिक नजारों का संगम है राजस्थान का पाली




राजस्थान के बीच में स्थित पाली छोटा जिला है लेकिन ऐतिहासिक, सांस्कृतिक और प्राकृतिक रूप से काफी महत्वपूर्ण है। साथ ही यह जिला टेक्सटाइल इंडस्ट्री के लिए प्रसिद्ध है।




घूमने के लिहाज से राजस्थान सबसे अच्छा ऑप्शन है, क्योंकि यहां के हर जिले में कुछ न खास है। राजस्थान में पाली एक जिला है। राज्य के बीच में स्थित पाली छोटा जिला है लेकिन ऐतिहासिक, सांस्कृतिक और प्राकृतिक रूप से काफी महत्वपूर्ण है। साथ ही यह जिला टेक्सटाइल इंडस्ट्री के लिए प्रसिद्ध है। बांदी नदी के किनारे बसा पाली अरावली पर्वतों श्रंखला से घिरा है। इसके अलावा पाली में पर्यटन की बात की जाए तो यहां कई देखने के लिए कई जगह हैं। ऐसा कहा जाता है कि पाली को पहले पल्लिका और पल्ली नामों से जाना जाता था। यहां पर रहने वाले पालीवाल ब्राह्मणों के कारण इसका नाम पाली पड़ा। 

लाखोटिया गार्डन 

पाली के प्राकृतिक स्थलों पर घूमने का मन बनाया है तो लाखोटिया गार्डेन जा सकते हैं। लाखोटिया गार्डन तालाब से घिरा हुआ है। यहां का हरा-भरा माहौल और शांत वातावरण पर्यटकों को अपनी तरफ आर्कषित करता है। इस गार्डन में भगवान शंकर का एक मंदिर भी स्थित है। इस मंदिर पर दर्शन के लिए काफी संख्या में पर्यटक पहुंचते हैं। 





बांगड़ म्यूजियम 
पाली के पुराने बस स्टैड पर स्थित बांगड़ म्यूजियम भी देखने के लिए अच्छी जगह है। इस म्यूजियम में ऐतिहासिक वस्तुओं रखी हैं। यहां पर पुराने समय में चलने वाले सिक्के, हथियार, पोशाक आदि का संग्रह है। पाली का यह म्यूजियम उन खास म्यूजियम में से है जहां पर राजस्थान के इतिहास और संस्कृति से जुड़ी वस्तुओं को देख सकते हैं। 



ओम बन्ना धाम 
पाली जिले में ओम बन्ना के नाम पर एक मंदिर है। इस मंदिर की खास बात है कि यहां पर किसी देवता नहीं बल्कि रॉयल एनफील्ड बाइक की पूजा की जाती है। ओम बन्ना की एक रोड एक्सीडेंट में मौत हो गई थी। इसके बाद पुलिस उनकी बाइक को पुलिस स्टेशन ले गए लेकिन बाइक अपने आप ही एक्सीडेंट वाले स्थान पर पहुंच गई। तब से ऐसा माना जाता है कि ओम बन्ना की आत्मा लोगों की रोड एक्सीडेंट से रक्षा करती है। इसलिए लोग श्रद्धा से बाइक की पूजा करते हैं। 

जवाई डैम 
जवाई डैम भी पाली में देखने के लिए अच्छी जगह है। जवाई डैम को जोधपुर के महराजा उम्मेद सिंह ने बनवाया था। यह पश्चिमी राजस्थान का सबसे बड़ा डैम है। इस डैम के पानी से काफी लोगों का काम चलता है। यहां पर आप पक्षी विहार का भी मजा ले सकते हैं। विश्व के भर से प्रवासी पक्षी सुरक्षित स्थान की तलाश में यहां का रुख करते हैं।

रणकपुर डैम 
जवाई डैम के अलावा रणकपुर डैम भी पाली जिले में है। यह डैम रणकपुर जैन मंदिर में पास में स्थित है। रणकपुर डैम के चारों तरफ काफी हरियाली है। यहां के प्राकृतिक वातावरण में काफी संख्या में पर्यटक पिकनिक मनाने आते हैं। इसके अलावा जैन धर्म में आस्‍था रखने वालों के साथ-साथ वास्‍तुशिल्‍प के रुचि लेने वाले लोग यहां आते हैं। 

इन जगहों पर भी जाएं 
पाली में नवलखा जैन मंदिर, महाराणा प्रताप स्मारक, राधा कृष्ण मंदिर, करनी माता मंदिर सहित कई अन्य स्थानों को देखने जा सकते हैं। 



loading...


कोई टिप्पणी नहीं