Breaking News

National Doctors' Day 2019 : जानिए Doctors' Day भारत में 1 जुलाई को क्यों मनाया जाता है

National Doctors' Day 2019: भारत में 1 जुलाई को क्यों मनाया जाता है डॉक्टर्स डे, जानिए इस दिवस का इतिहास और महत्व

National Doctors' Day 2019: भारत में डॉक्टरों (Doctors) को भगवान का दर्जा दिया जाता है, क्योंकि वो जिंदगी और मौत के बीच जूझ रहे मरीजों (Patients) का न सिर्फ इलाज करते हैं, बल्कि उन्हें एक नया जीवन भी देते हैं. भले ही जीवन और मृत्यु की डोर भगवान के हाथों में है, लेकिन उन्होंने डॉक्टर के रूप में धरती पर ऐसा मसीहा भेजा है, जिसे जीवन दाता कहा जाता है. विज्ञान और चिकित्सा जगत में हो रही तरक्की की मदद से डॉक्टर आज गंभीर बीमारियों से जूझ रहे मरीजों का इलाज कर उन्हें एक नई जिंदगी प्रदान कर रहे हैं. डॉक्टरों के इसी समर्पण, कार्य के प्रति निष्ठा, ईमानदारी और लगन के प्रति सम्मान जाहिर करने के लिए हर साल 1 जुलाई को नेशनल डॉक्टर्स डे यानी राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस (National Doctors' Day) सेलिब्रेट किया जाता है.



नेशनल डॉक्टर्स डे भारत के अलावा, क्यूबा, अमेरिका, वियतनाम, ब्राजील, नेपाल और ईरान जैसे कई देशों में मनाया जाता है. भारत में हर साल 1 जुलाई को नेशनल डॉक्टर्स डे मनाया जाता है तो वहीं अन्य देशों में अलग-अलग तारीखों पर इसे सेलिब्रेट किया जाता है.



क्यों मनाया जाता है नेशनल डॉक्टर्स डे?
हर व्यक्ति के जीवन में एक डॉक्टर अहम भूमिका निभाता है. डॉक्टर एक मरीज का इलाज कर उसे जल्द से जल्द ठीक करने के लिए अपना धर्म बखूबी निभाता है. एक ओर जहां लोग डॉक्टरों को भगवान का दर्जा देते हैं, तो वहीं दूसरी तरफ कभी-कभी आम और गरीब लोग गैर-जिम्मेदार और गैर- व्यावसायिक डॉक्टरों के चंगुल में भी फंस जाते हैं. जिसके कारण कई बार डॉक्टरों और मरीजों के बीच भरोसे की डोर कमजोर पड़ने लगती है.



यह दिवस उन डॉक्टरों को जागरूक करने का भी एक अवसर प्रदान करता है जो अपने प्रोफेशन का गलत इस्तेमाल कर रहे हैं. इसके अलावा इस दिन देश के उन डॉक्टरों को सम्मान देकर उनका आभार व्यक्ति किया जाता है, जिन्होंने अपनी कोशिश, समर्पण और मेहनत के जरिए मरीजों को जीवनदान देने में अहम भूमिका निभाई है.



loading...

कोई टिप्पणी नहीं