submit your Url to cotid.org tto improve marketing This site is listed under Internet Directory एक्साइज ड्यूटी और सेस में बढ़ोतरी के बाद पेट्रोल की कीमत 2.5 रुपए और डीजल की 2.3 रु. बढ़ी - THANKS INDIA NEWS

Breaking News

एक्साइज ड्यूटी और सेस में बढ़ोतरी के बाद पेट्रोल की कीमत 2.5 रुपए और डीजल की 2.3 रु. बढ़ी

बजट / एक्साइज ड्यूटी और सेस में बढ़ोतरी के बाद पेट्रोल की कीमत 2.5 रुपए और डीजल की 2.3 रु. बढ़ी

  1. पेट्रोल-डीजल पर अब स्पेशल एक्साइज ड्यूटी और रोड एंड इन्फ्रास्ट्रक्चर सेस लगेगा
  2. कच्चे तेल के दामों में उतार-चढ़ाव के बावजूद इस साल 1 जनवरी से अब तक पेट्रोल-डीजल के दाम में मामूली बढ़ोतरी हुई
Budget 2019, Nirmala Sitharaman | Petrol Diesel Costlier, Custom Duty On Gold Increased To 12.5% From 10%
  • नई दिल्ली. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शुक्रवार को मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का पहला बजट पेश किया। इसमें पेट्रोल और डीजल की कीमतें दो रुपए बढ़ाने का ऐलान किया गया। इसके अलावा सोने पर भी कस्टम ड्यूटी 10% से बढ़ाकर 12.5% कर दी गई। सीतारमण ने कहा, “कच्चे तेल के दाम पिछले कुछ समय में कम हुए हैं। इससे हमें पेट्रोल-डीजल पर लगने वाली एक्साइज ड्यूटी और सेस की समीक्षा करने का मौका मिला।”



    पेट्रोल-डीजल 2 रुपए तक महंगा हाेगा
    अभी पेट्रोल पर 17.98 रुपए और डीजल पर 13.83 रुपए प्रति लीटर एक्साइज ड्यूटी है। अब इसे एक रुपए बढ़ाया गया है। इसी तरह रोड और कंस्ट्रक्शन सेस भी एक रुपए प्रति लीटर बढ़ाया गया है। इसके अलावा बेस प्राइज पर सेंट्रल एक्साइज ड्यूटी लगाने के बाद लोकल सेल्स टैक्स और वैल्यू ऐडेड टैक्स में भी बढ़ोतरी हुई है। जिससे पेट्रोल 2.5 रुपए प्रति लीटर और डीजल 2.30 रुपए प्रति लीटर तक बढ़ गया। दिल्ली में पेट्रोल 70.51 रुपए प्रति लीटर है, जो बढ़कर 73.01 रुपए प्रति लीटर हो जाएगा। वहीं, डीजल 64.33 रुपए प्रति लीटर है, जो बढ़कर 66.63 रुपए प्रति लीटर हो जाएगा।
    पेट्रोल-डीजल पर नहीं आया कच्चे तेल के दामों का असर
    अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल के दाम बढ़ने के बावजूद घरेलू स्तर पर पेट्रोल-डीजल के दामों में ज्यादा इजाफा नहीं हुआ। 1 जनवरी से लेकर अब तक पेट्रोल के दामों में जहां 1.67 रुपए, वहीं डीजल के दामों में करीब 1.86 रुपए प्रति लीटर के हिसाब से बढ़ोतरी हुई है। जबकि इस दौरान कच्चे तेल के दाम 53.8 डॉलर प्रति बैरल के अपने न्यूनतम स्तर 9 डॉलर प्रति बैरल पहुंच चुके हैं। अप्रैल में कच्चे तेल की कीमत 75 डॉलर तक चली गई थीं।

    बढ़ सकती है महंगाई
    पेट्रोल-डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी से महंगाई की आशंका बढ़ गई है। देश की अधिकांश परिवहन व्यवस्था डीजल चालित वाहनों पर निर्भर है। डीजल की कीमत बढ़ने से परिवहन लागत बढ़ेगी, जिससे वस्तुओं की कीमत बढ़ेगी। इसके अलावा नौकरीपेशा लोगों को अब पेट्रोल की मद में ज्यादा रुपए खर्च करने पड़ेंगे।



    क्या-क्या महंगा हुआ?
    पेट्रोल-डीजलसिगरेट, हुक्का, तंबाकूसोना-चांदी
    आयातित कारेंस्प्लिट एसीलाउडस्पीकर
    वीडियो रिकॉर्डर्सआयातित किताबेंसीसीटीवी कैमरे
    काजूआयातित प्लास्टिकटाइल्स, फ्लोरिंग
    ऑप्टिकल फाइबरस्टील उत्पादआयातित ऑटो पार्ट्स
    अखबार-मैगजीन के कागजमार्बल स्लैबफर्नीचर
    क्या-क्या सस्ता हुआ?
    इलेक्ट्रिक वाहनों के पुर्जेसेट टॉप बॉक्स
    कैमरा मॉड्यूल, मोबाइल चार्जरविदेश में बने रक्षा उत्पादों का आयात



loading...

कोई टिप्पणी नहीं