Breaking News

परशुराम महादेव व सूर्य मंदिर काे नेशनल पार्क से बाहर नहीं किया तो ग्रामीण करेंगे आंदोलन


परशुराम महादेव व सूर्य मंदिर काे नेशनल पार्क से बाहर नहीं किया तो ग्रामीण करेंगे आंदोलन

सूर्य मन्दिर व मुछाला महावीर मन्दिर काे नेशनल पार्क से बाहर निकालने व परशुराम महादेव, सूर्य मन्दिर, शक्ति माता मन्दिर, रणकपुर, नलवाणिया, राजपुरा बांध व चारागाह स्थलाें काे नेशनल पार्क की सीमा में रखने के आदेश जारी हाेने के बाद विराेध हाेना शुरू हाे गया है। लाेक हित पशुपालन संस्थान के निदेशक हनवंतसिंह राठौड़ ने बताया की 24 जून काे अज्ञात स्थान पर परशुराम महादेव, सूर्य मन्दिर व शक्तिमाता के श्रद्धालुओं पशुपालकाें, सादड़ी के नागरिकों की बैठक हाेगी। राठौड़ ने बताया कि बैठक में रणकपुर व मुछाला महावीर मन्दिर काे नेशनल पार्क से बाहर करने व परशुराम महादेव, सूर्य मन्दिर व शक्ति माता मन्दिर राजस्व भूमि में खातेदारी में दर्ज हाेने के बाद भी हमारी वाजिब व लीगल आपत्ति काे खारिज कर सरकार, प्रशासन व वन विभाग ने पक्षपातपूर्ण रवैया अपनाकर जानबूझ कर इन तीर्थ स्थलाें काे नेशनल पार्क में रखा गया। जिससे बार-बार इनके विकास की उठ रही मांग काे टाला जा सके। यही नहीं रणकपुर, राजपुरा व नलवाणिया बांध, दाे राजमार्ग व एक मेगा हाइवे भी नेशनल पार्क में रख दिया। इस नेशनल पार्क में चारागाह स्थल व आदिवासियों काे जंगल में जाे अधिकार प्राप्त है, वाे भी समाप्त हाे जाएंगे। इस बात से नाराज श्रद्धालु, पशुपालक, आदिवासी 24 जून काे गुप्त स्थान पर बैठक कर आंदालेन पर विचार-विमर्श करेंगे। 

सम्मानजनक हल नहीं निकला ताे काेर्ट जाएंगे 


बैठक में परशुराम महादेव के तीनाें ट्रस्ट मंडलाें, परशुराम महादेव, सूर्य मन्दिर व शक्ति माता ट्रस्ट के पदाधकारियाें, श्रद्धालुओं, पशुपालकाें, आदिवासी नेताओं व समस्त राजनीतिक दलाें के सदस्याें काे आमंत्रित किया है। बैठक में आंदालेन का दिन व समय तय हाेगा। राठौड़ ने बताया की तय दिन के अनुसार नेशनल पार्क के विरोध में सरकार व जिला प्रशासन के विरुद्ध प्रदर्शन कर वन विभाग का घेराव करेंगे। 





कोई टिप्पणी नहीं