Breaking News

कुंभलगढ़ नेशनल पार्क के विरोध में बंद रहे यहां के कस्बे, प्रदर्शन में पशुपालकों के साथ ऊंट भी हुए शामिल

कुंभलगढ़ नेशनल पार्क के विरोध में बंद रहे यहां के कस्बे, प्रदर्शन में पशुपालकों के साथ ऊंट भी हुए शामिल



पाली/सदड़ी। कुम्भलगढ़ नेशनल पार्क के दायरे से रणकपुर, मुछाला महावीर मंदिर की तरह परशुराम महादेव, सूर्य मन्दिर, शक्ति माता मंदिर सहित सभी धार्मिक स्थल एवं पेयजल व सिंचाई जलस्रोत को बाहर रखने एवं पशुपालक, किसान, वनवासी को वन अधिकार 2006 लागू करने की मांग को लेकर शुक्रवार को सादड़ी, घाणेराव व देसूरी बन्द रहे। बाजारों में सन्नाटा पसरा रहा। बंद को लेकर भारी पुलिस बल तैनात किया गया है।
कुम्भलगढ़ नेशनल पार्क से राणकपुर, मुछाला महावीर की भांति परशुराम सूर्य मन्दिर सहित धार्मिक तीर्थ जलस्त्रोत व पशुपालक वनवासी को खातेदारी अधिकार दिलाने की माग को लेकर सादड़ी घाणेराव ओर देसूरी कस्बा शत प्रतिशत बन्द रहा। धरना प्रदर्शन चक्काजाम ओर ज्ञापन देने को लेकर आजाद मैदान में लोगों का जमघट लग। इसमें धार्मिक, सामाजिक राजनीतिक, स्वयंसेवी संस्थान सभी पदाधिकारी शामिल हैं। जुलूस आजाद मैदान से रवाना हुआ जो आखरिया चोक पहुंचकर धरने में बदल गया। पुलिस ने बंद वाले कस्बों में भारी पुलिस बल तैनात किया है।
41 गांवों से पहुंचे ग्रामीण 
लोकहित पशुपालक संस्थान निदेशक हनुवन्तसिंह राठौड़ के नेतृत्व में वनवासी व पशुपालकों के अधिकार, मवेशी चराई की मांग को लेकर ग्रामीणों ने विरोध तेज कर दिया है। उन्होंने शुक्रवार को हुए बन्द में 41 गांवों के किसान, पशुपालक व आदिवासी क्षेत्र के पंच पटेल की की बैठक लेकर बड़ी संख्या में सादड़ी पहुंचे। उन्होंने बताया कि राज्यपशु ऊंट ने भी धरना व भूख हड़ताल में शामिल हुए हैं।
loading...


loading...

कोई टिप्पणी नहीं