Breaking News

एनपीए / सरकारी बैंकों ने बीते वित्त वर्ष में 1.2 लाख करोड़ रु. वसूले, लक्ष्य से 60000 करोड़ कम

एनपीए / सरकारी बैंकों ने बीते वित्त वर्ष में 1.2 लाख करोड़ रु. वसूले, लक्ष्य से 60000 करोड़ कम



Public sector banks recover Rs 1.2 lakh cr from bad loans in 2018-19दिवालिया प्रक्रिया के 

  • अगले कुछ महीनों में इन पर फैसले के आसार, इनसे 50000 करोड़ की रिकवरी की उम्मीद

नई दिल्ली. सरकारी बैंकों ने बीते वित्त वर्ष (2018-19) में फंसे हुए कर्जों से 1.2 लाख करोड़ रुपए की वसूली की। इन्सॉल्वेंसी एंड बैंकरप्सी कोड (आईबीसी) के जरिए रिकवरी में मदद मिली। एक अधिकारी ने बताया कि नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल (एनसीएलटी) में कुछ बड़े मामलों का समाधान नहीं होने की वजह से सरकारी बैंक 1.80 लाख करोड़ रुपए की रिकवरी का लक्ष्य हासिल नहीं कर पाए। पिछले वित्त वर्ष (2017-18) में 74,562 करोड़ रुपए की वसूली हुई थी।

भूषण पावर एंड स्टील के लिए जेएसडब्ल्यू ने बोली बढ़ाई

  1. एस्सार स्टील और भूषण पावर एंड स्टील के बड़े मामले ट्रिब्यूनल में पेंडिंग हैं। अगले कुछ महीनों में इनके समाधान के आसार हैं। उनसे करीब 50,000 करोड़ रुपए की रिकवरी हो सकती है।
  2. भूषण पावर एंड स्टील के लिए जेएसडब्ल्यू स्टील ने प्रस्ताव 11,000 करोड़ रुपए से बढ़ाकर 18,000 करोड़ और फिर 19,000 करोड़ रुपए कर दिया। टाटा स्टील 17,000 करोड़ रुपए की बोली पर टिकी रही। एस्सार स्टील के लिए आर्सेलरमित्तल ने 42,000 करोड़ रुपए की बोली लगाई है।
  3. एक बैंक अधिकारी के मुताबिक मौजूदा वित्त वर्ष में सरकार का एजेंडा यह रहेगा कि सरकारी बैंकों की स्थिति में सुधार किया जाए और बड़े पैमाने पर फंसे हुए कर्ज की रिकवरी हो। साथ ही बताया कि नॉन बैंकिंग फाइनेंस कंपनियों के लिक्विडिटी के संकट को देखते हुए सरकार और रिजर्व बैंक उचित कदम उठाएंगे।