Breaking News

हम सब बेगूसरैया हैं और जुमलेबाज़ों को ताता थैया कराना हमें अच्छी तरह से आता है -कन्‍हैया कुमार


कन्‍हैया कुमार का गिरिराज सिंह पर हमला, कहा - हम सब बेगूसरैया हैं और जुमलेबाज़ों को ताता थैया कराना हमें अच्छी तरह से आता है


कन्हैया कुमार ने एक बार फिर Facebook पर पोस्ट लिखकर और ट्वीट कर बीजेपी उम्मीदवार गिरिराज सिंह (Giriraj Singh) पर निशाना साधा है

  • 'वीज़ा मंत्री जी को बेगूसराय में नानी की याद आती है'
  • 'जुमलेबाज़ों को ताता थैया कराना हमें आता है'
  • पीएम मोदी पर भी अक्‍सर निशाना साधते रहते हैं कन्‍हैया




 नई दिल्‍ली: जेएनयू (JNU) के पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार की तैयारी जोरों पर है. बिहार के बेगूसराय सीट (Begusarai Seat) से कन्हैया कुमार (Kanhaiya Kumar) का मुकाबला केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह (Giriraj Singh) और राजद के तनवीर हसन (Tanveer Hasan) से है. कन्हैया सीपीआई (CPI) के टिकट पर चुनाव लड़ रहे हैं. कन्हैया कुमार ने एक बार फिर Facebook पर पोस्ट लिखकर और ट्वीट कर बीजेपी उम्मीदवार गिरिराज सिंह (Giriraj Singh) पर निशाना साधा है. कन्हैया कुमार ने लिखा, चुनाव भी दिलचस्प चीज़ है. वीज़ा मंत्री जी को बेगूसराय में नानी की याद आती है और केरल देखकर पाकिस्तान की. मतलब पूरी दुनिया की याद आ जाती है, बस जनता और उसके मुद्दों की याद कभी नहीं आती. लेकिन मंत्री जी भूलिएगा मत, हम सब बेगूसरैया हैं और जुमलेबाज़ों को ताता थैया कराना हमें अच्छी तरह से आता है.'
इससे पहले भी कन्हैया सोशल मीडिया के जरिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अपने प्रतिद्वंद्वी उम्मीदवार गिरिराज सिंह पर निशाना साधते रहे हैं. 18 अप्रैल को ही कन्‍हैया ने अपने फेसबुक वॉल पर पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए लिखा, 'मोदी जी का विकास तो उनके साथ हवाई जहाज में पूरी दुनिया घूम आया, लेकिन बेगूसराय जैसे हज़ारों शहर आज तक उसकी सूरत नहीं देख पाए हैं. बेगूसराय के युवाओं को न तो यहां के सरकारी कॉलेजों में विकास दिख रहा है न ही अस्पतालों में. लेकिन इस बार बेगूसराय की जनता जुमलों के झांसे में नहीं आने वाली है.'

18 अप्रैल को ही कन्‍हैया ने गिरिराज सिंह पर हमला बोलते हुए लिखा, 'वीज़ा मंत्री जी पिछले पांच साल के अपने पांच बड़े काम भले न गिना पाएं, लेकिन पाकिस्तान का नाम 5000 बार ले चुके होंगे. पाकिस्तान उनके मन में इस तरह समा गया है कि उन्हें केरल में पाकिस्तान नज़र आ रहा है. इस जज़्बे को क्या नाम दिया जाए? अगर वे थोड़ा समय अपने देश को दे पाते, तो आज बेगूसराय में हमें उद्यमों का विकास दिखता, लेकिन हमें क्या दिखता है? कभी केरल में पाकिस्तान देखने वाले मंत्री जी के बयान का वीडियो तो कभी भारतीयों को पाकिस्तान भेजने वाले बयान का वीडियो. राजनीति का वीडियोकरण हो गया है. ज़मीन के मुद्दों की बात नहीं होती, बस हवा-हवाई मुद्दों के शोर में असली मुद्दों का दबाया जाता है.